Top
Begin typing your search...
Home Short Story

You Searched For "Short Story"

कविता: कृषक के मुखड़े पे मुस्कान छाई....दामिनी दिखाई है

कविता: कृषक के मुखड़े पे मुस्कान छाई....'दामिनी दिखाई है'

आई बरसात ऋतु चहुँ ओर घन घोर।मेघ बीच गर्जना में दामिनी दिखाई है।।बदरी आकाश बीच छाई है अन्हार जसचहुँ ओर धारा जल वृष्टि की दिखाई हैघोर जलवृष्टि अंधकार...

इश्क में धोखा और दर्दे दिल अब नहीं होता है किसी पर एतबार

'इश्क में धोखा' और 'दर्दे दिल' अब नहीं होता है किसी पर एतबार

कविता का सौंदर्य ही ऐसा है कि हम हमारी भावनाओं को सामने वाले को अहसास करा देते हैं। हमारी भावनाएं जैसी भी हो वो सामने वाले के हृदय में जन्म ले लेती

Share it